Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

डीजी कारागार एस एन साबत ने किया गाजियाबाद जेल का निरीक्षण,, विभागीय अधिकारियों को जारी किए ये निर्देश

DG Prisons SN Sabat inspected Ghaziabad Jail, issued these instructions to the departmental officers

Up news today । उत्तर प्रदेश के डीजी कारागार एस एन साबत ने शनिवार को जिला कारागार गाजियाबाद का निरीक्षण किया । निरीक्षण से पूर्व गोष्ठी में पुलिस कमिश्नर गाजियाबाद अजय मिश्रा भी मौजूद थे एवं इस अवसर पर पुलिस के साथ कारागार अधिकारियों के समन्वय के बारे में भी चर्चा हुई।कारागार के मुख्य द्वार पर रिजर्व पुलिस लाइन गाजियाबाद के जवानों द्वारा डीजी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।


कारागार प्रशासन मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस महानिदेशक कारागार के साथ जनपद गाजियाबाद कमिश्नरेट के पुलिस कमिश्नर अजय मिश्रा द्वारा कारागार का भ्रमण और निरीक्षण करते हुए कारागार की बेस्ट प्रैक्टिसेज का अवलोकन किया गया। कारगार के एक्टिविटी सेंटर का भी अवलोकन किया गया। इस सेंटर पर बंदियों को विभिन्न रोजगारपरक कौशल विकास कार्यक्रम जैसे कंप्यूटर ट्रेनिंग, सिलाई बुनाई, एंब्रॉयडरी और हेयर कटिंग का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। साथ ही बंदियों के लिए रोजगारपरक हाॅबी कोर्सेज जैसे पेंटिंग, ड्राइंग, आर्ट एंड क्राफ्ट, सिंगिंग, डांसिंग, पॉटरी मेकिंग इत्यादि की क्लासेस चलाई जा रही है। इसके अतिरिक्त अति महत्वपूर्ण उत्तर प्रदेश सरकार के कौशल विकास मिशन कार्यक्रम के अंतर्गत बंदियों को एपारेल , ब्यूटी वैलनेस, फार्मिंग गार्डेनिंग, फूड प्रोसेसिंग का भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

पुलिस महानिदेशक कारागार द्वारा कारागार में बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट कार्यक्रम के अंतर्गत वेस्ट मटेरियल से जिराफ, हाथी घोड़े, चिड़िया जैसे बच्चों के सुंदर खिलौने बनाने और कारागार के बंदियों द्वारा बनाई गई उत्कृष्ट पेंटिंग्स, पोट्रेट तथा देशभक्ति के थीम पर बंदियों के नृत्य की प्रशंसा की गई और बंदियों को सकारात्मक विचारों के साथ अपने आप को बेहतर बनाने की प्रेरणा दी गई।
डीजी कारागार श्री साबत ने अधिकारियों व कर्मचारियों को कारागार को एक आदर्श मॉडल के तौर पर विकसित करने के निर्देश दिए गए हैं। जिससे कारागार में निरुद्ध बंदी को पर्याप्त अवसर मिल सके और वह मानवता के साथ मानवीय मूल्यों, शिक्षा ज्ञान और अपने कौशल को विकसित कर समाज में एक बेहतर इंसान के रूप में पुनः स्थापित कर सके।

पुलिस महानिदेशक कारागार द्वारा अवगत कराया गया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा नई जेल मैनुअल के साथ-साथ मॉडल कोड भी कारागारों में स्थापित किए जाने का प्रयास किया जा रहा है, जिस से बेहतर सुरक्षा के साथ आधुनिक तकनीक, शिक्षा सुधार का समावेश कर कारागारों को आदर्श सुधार गृह के रूप में प्रतिस्थापित किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान में उत्तर प्रदेश की कारागारों में इस्तेमाल होने वाले उच्च आधुनिक तकनीक जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को समावेशित कर ऑनलाइन सीसीटीवी प्रणाली से बंदियों की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है और उनके बीच विवाद संवेदनशील स्थानों पर संदिग्ध गतिविधियों को न केवल सतत मॉनिटर किया जा रहा है अपितु आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के माध्यम से तुरंत अलार्म-अलर्ट भी किया जा रहा है। कारागारों को हाईटेक करने के क्रम में करागारों में ड्रोन कैमरा, बॉडी वार्न कैमरा उपलब्ध कराए गए हैं।


साथ ही अपराधियों के निरुद्धि के संबंध एवं लंबित मुकदमों की समस्त जानकारी एक ही जगह पर उपलब्ध कराने हेतु ई-प्रिजन मॉड्यूल को आई.सी.जे.एस (इंटीग्रेटेड क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम) के अंतर्गत पुलिस के सी.सी.टी.एन.एस (क्राइम क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क सिस्टम) और न्यायपालिका के ई-कोर्ट को ऑनलाइन प्रणाली से जोड़ा जा रहा है।
पुलिस महानिदेशक कारागार श्री साबत ने कारागार के अधिकारियों कर्मचारियों को एक टीम भावना के साथ मिलकर अच्छे कार्य करने के भी निर्देश दिए गए है। इस अवसर पर जेल अधीक्षक आलोक सिंह जेलर कुलदीप सिंह भदौरिया एवं अन्य अधिकारी कर्मचारी गण उपस्थित रहे।

Leave a Comment