Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने बोला केन्द्र सरकार व विपक्षी पार्टियों पर हमला, मीडिया से कही यह बात

UP news today। बहुजन समाज पार्टी ( BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ( Mayawati) ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए केंद्र सरकार और विपक्ष पर करारा हमला बोला है । बसपा सुप्रीमो ने कहा कि सत्ता पक्ष और विपक्ष के लोग आपस में मिले हुए हैं।

मीडिया से कही यह बड़ी बात

मीडिया से बात करते हुए बसपा सुप्रीमो ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि केंद्र में सत्ता और विपक्ष के द्वारा संसद के अंदर और बाहर भी संविधान की कॉपी दिखाने की होड़ में यह लोग एक ही थैली के चट्टे बट्टे लग रहे हैं तथा उनकी सोच भी लगभग एक जैसी ही लग रही है और इन दोनों ने अंदर-अंदर मिलकर संविधान को काफी हद तक जातिवादी सांप्रदायिक एवं पूंजीवादी संविधान बना दिया है एवं इसको संशोधनों के जरिए जातिवादी एवं पूंजीवादी संविधान बना दिया है। बसपा सुप्रीमो ने कहा कि मैं अंदरूनी मिली भगत की बात इसलिए कह रही हूं क्योंकि इन दोनों की भी खास कर कांग्रेस और बीजेपी व अन्य पार्टियों की भी जिन-जिन राज्यों में सरकार चल रही है तो वह सभी राज्य सरकार वहां के लोगों की खास कर गरीबी बेरोजगारी व महंगाई को दूर करने में बुरी तरह से असफल हो गई है और अब उन पर से जनता का ध्यान बंटाने के लिए इन दोनों की अर्थात सत्ता व विपक्ष की अंदरूनी मिली भगत से ही जबरदस्ती संविधान बदलने का नाटक किया जा रहा है । बसपा सुप्रीमो ने कहा कि इस देश की जनता को जरूर सावधान रहना है और यह लोग अपने-अपने राजनीतिक स्वार्थ में यानी कि सत्ता और विपक्ष के यह लोग अपने-अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए जहां इस भारतीय संविधान के साथ जो खिलवाड़ कर रहे हैं यह कतई भी उचित नहीं है जबकि इन दोनों ने अर्थात सत्ता व विपक्ष ने अब तक अंदर-अंदर मिलकर संविधान में इतने ज्यादा संशोधन कर दिए हैं कि अब यह बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के मनसा वाला समता मूलक धर्मनिरपेक्ष एवं बहुजन हिताय वाला संविधान नहीं रहा है बल्कि अधिकांश अव यह जातिवादी सांप्रदायिक एवं पूंजीवादी संविधान बनकर रह गया है साथ ही सत्ता और विपक्ष के जातिवादी मानसिकता के लोग अंदर मिलकर जहां एससी एसटी वा ओबीसी वर्गों का खासकर शिक्षा व सरकारी नौकरियां आदि में बाबा साहब की बदौलत मिले आरक्षण को समाप्त करना चाहते हैं या फिर इसे निष्प्रभावी बनाकर के इसे समाप्त करना चाहते हैं।

Leave a Comment