Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सीएम योगी ने दी मथुरा जनपद के विकास के लिए विभिन्न परियोजनाओं दी सौगात,, कही ये बात

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज जनपद मथुरा में प्रबुद्धजन सम्मेलन में सम्मिलित हुए। इस अवसर पर उन्होंने मथुरा के विकास से सम्बन्धित 822.43 करोड़ रुपये की 210 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इसमें 324 करोड़ रुपये से अधिक लागत की 84 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा लगभग 498 करोड़ रुपये कुल लागत की 126 परियोजनायों का शिलान्यास शामिल है।
मुख्यमंत्री श्री योगी ने विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र, नियुक्ति-पत्र, आवास की प्रतीकात्मक चाभी, प्रतीकात्मक चेक, टैबलेट तथा स्मार्ट फोन व आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों को गोल्डेन कार्ड वितरित किये। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम स्थल पर आयोजित विभिन्न विभागों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने गर्भवती माताओं की गोदभराई तथा बच्चों का अन्नप्राशन भी कराया। मथुरा में हुये कार्यक्रम में प्रबुद्धजनों द्वारा मुख्यमंत्री का सम्मान किया गया।


इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की लम्बी विरासत है। यहां पर भगवान श्रीकृष्ण की पावन जन्मभूमि के साथ ही राधारानी और भगवान श्रीकृष्ण की लीला भूमि भी स्थित है। भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या, बाबा विश्वनाथ का पावन धाम, मां विन्ध्यवासिनी का पवित्र धाम तथा भगवान बुद्ध से जुड़े हुए सर्वाधिक पवित्र स्थल भी उत्तर प्रदेश में मौजूद हैं। दुनिया की सबसे पवित्र नदियों मां गंगा तथा मां यमुना का आशीर्वाद प्रदेश को प्राप्त होता है। दुनिया का सबसे बड़ा सांस्कृतिक आयोजन प्रदेश के जनपद प्रयागराज में कुम्भ के रूप में होता है। भगवान राम ने वनवास काल में सर्वाधिक समय चित्रकूट में व्यतीत किया था, यह भी उत्तर प्रदेश में है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत में वैदिक ज्ञान को लिपिबद्ध करने का कार्य प्रदेश में नैमिषारण्य की धरा पर हुआ था। भागवत की पहली कथा भगवान श्रीकृष्ण की परम्परा में उनके पौत्र को सुनाने का सौभाग्य प्रदेश के शुकतीर्थ में हुआ था। ऐसी पवित्र धरा पर हम सभी को जन्म लेने का तथा अपनी कर्मभूमि के माध्यम से यहां पर सेवा करने का अवसर प्राप्त हुआ है। आज पूरी दुनिया उत्तर प्रदेश को कौतूहल से देख रही है। नये भारत के नये उत्तर प्रदेश की प्रगति की ओर दुनिया आकर्षित हो रही है।


सीएम योगी ने कहा कि वर्ष 2017 में प्रदेश सरकार ने नये नगर निगम बनाने की कार्यवाही प्रारम्भ की थी, तब उनके पास मथुरा-वृन्दावन को नगर निगम बनाने का प्रस्ताव आया था। इसे नगर निगम बनाने का सौभाग्य हमें प्राप्त हुआ। बोर्ड गठित होने के बाद विकास की प्रक्रिया आगे बढ़ी। उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद के गठन के माध्यम से यहां विकास परियोजनाओं को आगे बढ़ाया गया। स्वतंत्र भारत में ब्रज भूमि के विकास का समय आया है। ब्रज भूमि के विकास के लिए लगभग 30,000 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट विभिन्न चरणों में हैं। विकास की प्रक्रिया न रुके इसके लिए आप सभी प्रबुद्धजनों के साथ संवाद बनाने तथा आभार व्यक्त करने के लिए वे आज यहां आये हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में 8 महीने पूर्व विधान सभा के चुनाव हुए थे। उसमें ब्रज भूमि ने साबित किया कि वह अधर्म, अत्याचार, अन्याय तथा शोषण के साथ नहीं है। आपने हमारे सभी प्रतिनिधियों को चुनाव में विजयी बनाकर भेजा। इसके लिए मथुरावासियों का आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले 5 सालों में आपने ब्रज भूमि को बदलते देखा है। मथुरा, वृन्दावन, बरसाना, नन्दगांव तथा बलदेव ये सभी तीर्थस्थल बदलते हुए दिखायी दे रहे हैं। हमारा प्रदेश देश के किसी भी राज्य से ज्यादा सुन्दर व स्वच्छ है। आधारभूत संरचना के विकास के जितने कार्य प्रदेश में हो रहे हैं, वह अतुलनीय हैं।


मुख्यमंत्री ने कहा कि आज प्रदेश विकास के नये मॉडल के रूप में आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में 4-लेन सड़क, एक्सप्रेस-वे, वॉटर-वे, हर घर नल योजना के कार्य, फ्लाई ओवर, एलिवेटेड रोड तथा रोप-वे का निर्माण व्यवस्थित रूप से किया जा रहा है। यह विकास, विरासत को संरक्षित करते हुए लोगों के जीवन में परिवर्तन लाएगा। यह सर्वाधिक आबादी वाले राज्य के नौजवानों को रोजगार देगा। इससे अन्नदाता किसानों की आय में वृद्धि होगी। यह विकास प्रदेश के सभी व्यवसायियों तथा उद्यमियों के व्यवसाय को कई गुना बढ़ाने में मदद करेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सदी की सबसे बड़ी महामारी के दौरान सरकार ने आमजनमानस को बचाने का कार्य किया। दुनिया महामारी के सामने पस्त हो गयी थी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत कोरोना के खिलाफ मजबूती के साथ लड़ाई लड़ रहा था। दुनिया में कहीं भी निःशुल्क टेस्ट, निःशुल्क उपचार तथा निःशुल्क वैक्सीन की व्यवस्था नहीं थी। दुनिया में कहीं भी निःशुल्क राशन की सुविधा नहीं थी। भारत में अलग-अलग तबकों के लिए अलग-अलग योजनाएं चलायी गयी थीं। पटरी व्यावसायियों के लिए पी0एम0 स्वनिधि जैसी योजनाएं दुनिया में अन्य जगहों पर नहीं थीं। प्रधानमंत्री ने अपने दूरदर्शी नेतृत्व से भारत को महामारी के प्रकोप से बचाया। आज भी महामारी के साइडइफेक्ट से दुनिया में लोग जूझ रहे हैं। लेकिन भारत दुनिया में सबसे तेजी से उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रूप में अपने 140 करोड़ लोगों के जीवन और जीविका को सुरक्षित रखते हुए आगे बढ़ रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने स्मार्ट सिटी मिशन के अन्तर्गत प्रदेश के 10 शहर चिन्हित किये थे। राज्य सरकार ने शेष 7 नगर निगमों को राज्य स्मार्ट सिटी मिशन से जोड़ा। इनमें मथुरा-वृन्दावन भी था। स्मार्ट सिटी मिशन के अन्तर्गत इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर (आई0सी0सी0सी0) बनाये गये हैं। कोविड काल में इसने कोविड प्रबन्धन का कार्य भी किया। उस समय स्वास्थ्य कर्मियों, ए0एन0एम0, आशा वर्कर तथा आंगनबाड़ी सभी ने मिलकर टीम भावना के साथ एक-एक व्यक्ति की जान को बचाने का कार्य किया। आज आई0सी0सी0सी0 का उपयोग ट्रैफिक मैनेजमेण्ट के साथ ही सेफ सिटी के विकास के माध्यम से सभी को सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जा रहा है। सेफ सिटी के रूप में उत्तर प्रदेश के 18 शहरों का विकास किया जा चुका है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज प्रदेश में सभी जगहों पर परिवर्तन दिखायी दे रहा है। लोगों के मन में एक विश्वास है। हमारे एम0एस0एम0ई0 उद्यमियों ने ‘एक जनपद, एक उत्पाद योजना’ (ओ0डी0ओ0पी0) के माध्यम से अच्छा कार्य किया है। ओ0डी0ओ0पी0 तथा विश्वकर्मा श्रम सम्मान जैसी योजनाओं के माध्यम से प्रदेश का निर्यात दोगुना हुआ है। पहले शहरी क्षेत्र में गरीबों को आवास के लिए धन मिलना एक स्वप्न था। आज प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी के माध्यम से हर गरीब को ढाई लाख रुपये की राशि केन्द्र व राज्य सरकार मिलकर दे रही है। इसमें डेढ़ लाख रुपये भारत सरकार तथा 01 लाख रुपये प्रदेश सरकार देती है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पी0एम0 स्वनिधि योजना के अन्तर्गत पटरी व्यावसायियों के लिए पहली बार योजना बनायी गयी। आज प्रदेश में 09 लाख पटरी व्यावसायियों को ब्याज मुक्त लोन की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। इसके माध्यम से इनके परिवार के लगभग 45 लाख लोगों को स्वावलम्बन के साथ आगे बढ़ने का मंच मिला है। यह एक नया प्रयास है। रसोई गैस के निःशुल्क कनेक्शन तथा सौभाग्य योजना के अन्तर्गत निःशुल्क विद्युत कनेक्शन भी उपलब्ध कराये गये हैं। विद्युत के लटकते-झूलते तारों से मुक्ति के लिए अण्डरग्राउण्ड केबिल के माध्यम से व्यवस्था की गयी है। एल0ई0डी0 स्ट्रीट लाइटों की रोशनी का सभी आनन्द ले सकते हैं। यह उत्तर प्रदेश की बदलती हुई तस्वीर है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि कोविड की द्वितीय लहर के दौरान जब पूरी दुनिया पस्त थी, तब मथुरा में यमुना माता, श्री बांके बिहारी तथा राधारानी की कृपा से कुम्भ पूर्व, वैष्णव कुम्भ बैठक का आयोजन भव्यता के साथ किया गया था। आज मथुरा, वृन्दावन, बरसाना, नन्दगांव तथा बलदेव के विकास की लगभग 822 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया गया है। इनमें नगरीय जीवन में बुनियादी सुविधाओं से सम्बन्धित योजनाएं, फ्लाई ओवर, पुल, मार्ग, गोसंरक्षण केन्द्र, स्किल डेवलपमेण्ट सेण्टर तथा स्कूल-कॉलेज के निर्माण कार्य सम्मिलित हैं।


मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास की प्रक्रिया थमनी नहीं चाहिए। यमुना जी की अविरलता व निर्मलता के लिए सरकार प्रयासरत है। नगर निगम द्वारा नमामि गंगे परियोजना के माध्यम से नाले टैप किये गये हैं, सीवर को डायवर्ट किया गया है। यमुना जी में गन्दा पानी नहीं बहेगा, इस अपेक्षा के साथ कार्य किये जा रहे हैं। सौन्दर्यीकरण की परियोजनाओं को आगे बढ़ाया जा रहा है। विकास के बुनियादी कार्याें के साथ-साथ परिक्रमा पथ को सुदृढ़ किया जा रहा है। लोक कल्याण कार्याें के साथ ही इन्फ्रास्ट्रक्चर के कार्य भी हो रहे हैं। इन सभी कार्याें में कोई बाधा न आये, इसमें स्थानीय निकाय संस्थाओं की बड़ी भूमिका होती है। प्रबुद्धजन इस पूरी प्रक्रिया के साथ जुड़कर इसके लिए माहौल बनाते हैं। डबल इंजन की सरकार ने विकास के लिए कार्य किया है। इसमें सहयोग के लिए तीसरा इंजन भी इस प्रक्रिया से जुड़ना चाहिए। इसके लिए स्थानीय निकाय में अच्छे बोर्ड का गठन किया जाना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्रज भूमि आज गो-संरक्षण का सबसे बड़ा केन्द्र है। 5,000 वर्षाें से ब्रज भूमि गोसेवा का कार्य कर रही है। सरकार ने इसे बायोफ्यूल से जोड़ने का कार्य किया है। नेचुरल फार्मिंग के साथ ही इसे जोड़ा जा रहा है। मुख्यमंत्री ने इसे तेजी के साथ आगे बढ़ाने तथा विकास की प्रक्रिया को निवेश की प्रक्रिया से जोड़ने के लिए उद्यमियों, व्यापारियों तथा प्रबुद्धजनों से अनुरोध करते हुए कहा कि वे सभी सेक्टरों मे निवेश की सम्भावना को तलाशें। ब्रज भूमि, तीर्थ भूमि है। इसके विकास के साथ ही शिक्षा, स्वास्थ्य, एम0एस0एम0ई0 सेक्टर तथा अन्य क्षेत्रों में यहां पर निवेश लाया जा सकता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि 10 से 12 फरवरी, 2023 तक प्रदेश की राजधानी लखनऊ में यू0पी0 ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया जा रहा है। अभी से जनपद की सम्भावनाओं को आगे बढ़ाया जाना चाहिए। विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेज, स्किल डेवलपमेण्ट सेण्टर, मन्दिर व तीर्थ स्थलों के विकास कार्य, धर्मशाला का निर्माण, अच्छे होटलों का निर्माण, इलेक्ट्रिक बसों के संचालन या अन्य कार्यक्रमों में निवेश की सम्भावनाएं हैं। सभी सेक्टरों में निवेश की सम्भावनाओं को साकार करने की आवश्यकता है। इनके साथ जो भी जुड़ेगा, राज्य सरकार उन्हें पूरी सुरक्षा प्रदान करेगी। प्रदेश सरकार की विभिन्न नीतियों के माध्यम से सुविधाएं सरकार प्रदान करेगी। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि सभी पर श्रीबांके बिहारी, राधारानी तथा यमुना मइया की निरन्तर कृपा बनी रहे।


इस अवसर पर केन्द्रीय कानून एवं न्याय राज्य मंत्री डॉ0 सत्यपाल सिंह बघेल, प्रदेश के चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं प्रबुद्धजन तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि मन्दिर पहुंचकर दर्शन-पूजन किया।

Subscribe our channel on YouTube :

Up news sirf sach

Leave a Comment