Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

यूपी के मंत्री नगर विकास ए.के. शर्मा ने महाकुम्भ-2025 के लिए कराये जा रहे कार्यों के प्रगति की समीक्षा,जारी किए ये निर्देश

सभी विभाग अपने कार्यों को निर्धारित समय सीमा में गुणवत्ता के साथ पूर्ण कराये

UP News Today । उत्तर प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए0के0 शर्मा ने शनिवार को प्रयागराज के सर्किट हाउस के सभागार में महाकुम्भ-2025 की तैयारियों के सम्बंध में कराये जा रहे कार्यों के प्रगति की समीक्षा करते हुए सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों को अपने कार्यों को निर्धारित समय सीमा में गुणवत्ता के साथ अनिवार्य रूप से पूर्ण कराये जाने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि सभी स्थायी कार्य निर्धारित समय सीमा में अवश्य पूर्ण करा लिए जाये।महाकुम्भ-2025 के दृष्टिगत नगर निगम में शामिल किए गए विस्तारित क्षेत्रों में भी महाकुम्भ से पहले आवश्यक सुविधाएं यथा-पानी, सड़क, स्ट्रीट लाइट के कार्य समय से पूर्ण हो, महाकुम्भ के दृष्टिगत जो भी स्थायी कार्य कराये जा रहे है, उन्हें पूर्ण गुणवत्ता के साथ बनाया जाये, जिससे महाकुम्भ के पश्चात भी उन कार्यों में कोई कमी न आने पाये और प्रयागराज की एक अलग पहचान हमेशा बनी रहे। उन्होंने मुख्य सड़कों के साथ-साथ गलियों में बनायी जाने वाली आंतरिक सड़कों को भी पूर्ण गुणवत्ता के साथ बनाये जाने के लिए कहा।

उन्होंने ग्रीन महाकुम्भ के दृष्टिगत सड़कों पर बने डिवाइडरों के बीच वृक्षारोपण की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के साथ व्यापक संख्या में पौधों का रोपण किए जाने के लिए कहा है, जिससे कि शहर हरा-भरा व सुंदर दिखे।

नगर विकास मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि महाकुम्भ-2025 को ‘‘आउट ऑफ द वर्ल्ड’’ बनाना है, जिससे हमारे जनपद एवं प्रदेश का ही नहीं बल्कि पूरे भारत वर्ष का नाम पूरी दुनिया में ऊंचा हो। उन्होंने महाकुम्भ को सकुशल, सुरक्षित एवं स्वच्छ ढंग से कराये जाने के साथ कुम्भ में आने वाले श्रद्धालुओं को सभी मूलभूत सुविधाओं मिले, इस दृष्टि से कार्य किया जाए, जिससे श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानियों का सामना न करना पड़े।

मंत्री श्री शर्मा ने महाकुम्भ के दृष्टिगत विभागवार कराये जा रहे कार्यों के प्रगति की विस्तृत समीक्षा की। बैठक में कुम्भ मेलाधिकारी विजय किरण आनन्द ने बताया कि राज्य सेतु निगम के द्वारा कराये जा रहे कुल 14 कार्यों में तीन कार्य पूर्ण हो चुके है, 11 कार्य निर्माणाधीन है, जिसपर मंत्री जी ने सेतु निगम के अधिकारियों से समय से पीछे चल रही परियोजनाओं में कार्मिंकों व शिफ्टों की संख्या बढ़ाकर कार्य को निर्धारित समयसीमा में पूर्ण कराये जाने के लिए कहा। उन्होंने एनएचआई द्वारा बनाये जा रहे रायबरेली-प्रयागराज की प्रगति पर असंतोष जताते हुए कार्य को समय से पूरा कराये जाने के लिए निर्देशित किया। मंत्री जी ने मलाक हरहर से गंगा नदी पर बनने वाले 6 लेन पुल के निर्माण कार्य को गुणवत्ता के साथ समय से पूर्ण किए जाने का निर्देश दिया।

बैठक में कुम्भ मेलाधिकारी ने बताया कि संगम से एयरपोर्ट रोड के कायाकल्प की योजना है, जिससे एयरपोर्ट से संगम तक मात्र 40 मिनट में पहुंचा जा सकेगा, का कार्य एवं निर्माणाधीन 9 घाटों का कार्य तेजी से चल रहा है और सभी कार्य अक्टूबर-2024 तक पूर्ण कर लिए जायेंगे।

नगर विकास मंत्री ने परिवहन विभाग की समीक्षा करते हुए सभी बस स्टेशनों पर अतिरिक्त शौचालय बनाये जाने व मोबाइल टॉयलेट की व्यवस्था के साथ इनकी सफाई की उत्तम व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए कहा, जिससे कि श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि शहर की जिन सड़कों का चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है, वहां पर नगर निगम एवं पीडीए की संयुक्त जिम्मेदारी है कि वहां के मलवे को साफ कराकर फिनिशिंग का कार्य एवं बंद हुई नालियों को चालू रखें। उन्होंने कहा कि महाकुम्भ के समय श्रद्धालुओं का आवागमन मुख्य मार्गों के साथ गलियों से भी होता है, इसलिए गलियों में साफ-सफाई व स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाये।

बैठक में कुम्भ मेलाधिकारी के द्वारा शहर के सौन्दर्यीकरण हेतु कराये जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से बताया गया, जिसपर मंत्री जी ने कहा कि नगर को सुशोभित रखना सभी नगर वासियों की भी जिम्मेदारी है। उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी अधिकारियों को मुख्य मार्गों के किनारे स्थित उनके कार्यालयों की साफ-सफाई, मरम्मत व साज-सज्जा कराकर सुंदर बनाये जाने के लिए कहा। उन्होंने जनप्रतिनिधिगणों, व्यापारिक संगठनों, शिक्षण संस्थाओं के साथ बैठक कर उनके अपने संस्थानों को भी सुसज्जित कराये जाने के लिए कहा।

मंत्री शर्मा ने पीडब्लूडी विभाग के द्वारा कराये जा रहे सभी 79 परियोजनाओं के बारे में जानकारी लेते हुए पांटून पुलों में लगने वाले सालस्लीपर के टेण्डर के बारे में पूछा, जिसपर कुम्भ मेलाधिकारी ने बताया कि पीडब्लूडी विभाग के सभी स्थायी कार्य अक्टूबर तक पूर्ण कर लिए जायेंगे व सालस्लीपर की टेण्डर प्रक्रिया पूर्ण हो चुकी है। उन्होंने कहा कि सभी निर्माणाधीन सड़कों व चौराहों को उच्च गुणवत्ता के साथ बनाया जाये, जिससे कि महाकुम्भ के बाद भी उनकी गुणवत्ता बनी रहे। उन्होंने गुणवत्ता के जांच हेतु अतिरिक्त जांच एजेंसियां लगाये जाने के लिए कहा। उन्होंने सड़कों के मध्य बनाये जाने वाले गटरों के ढक्कनों को सड़क की ऊंचाई पर व मुख्य सड़क के साथ पटरी को भी उसी के अनुरूप ही बनाया जाने के लिए कहा, जिससे आवागमन में बाधा न पहुंचे।

कुम्भ मेलाधिकारी ने स्वच्छ कुम्भ के लिए नगर निगम के सिटी सैनिटेशन प्लान के बारे में विस्तार से बताया। मंत्री ने कहा कि व्यापार मण्डल की एक बैठक कराकर सभी ठेलों व दुकानों के पास गार्बेज के लिए डस्टबिन अवश्य रखा जाना सुनिश्चित कराया जाए। मेलाधिकारी ने बताया कि जिन नालों को कुम्भ के समय तक अनटैप्ड नहीं किया जा सकता, उनके लिए जिओ ट्यूब टेक्नोलॉजी के माध्यम से शोधन का कार्य किया जायेगा। पर्यटन स्थलों व मंदिरों का जीर्णोद्धार का कार्य सितम्बर-2024 तक पूर्ण कर लिया जायेगा। उन्होंने बताया कि टेण्ट सिटी में इस बार 2 हजार टेण्ट लगाये जायेंगे, जिससे लिए ऑनलाइन बुकिंग का कार्य प्रारम्भ हो गया है।

बैठक में प्रभागीय वनाधिकारी के द्वारा बताया गया कि ग्रीन कुम्भ के लिए 1.5 लाख पौधों का रोपण किया जायेगा, जिसपर मंत्री जी ने रोड़ के डिवाईडरों व सड़क किनारे खाली स्थानों पर वृक्षारोपण कराये जाने के लिए कहा, जिससे कि लोगो के बैठने के लिए छाया की व्यवस्था भी हो सके।

नगर विकास मंत्री ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को मेडिकल कालेज तथा प्रयागराज के मुख्य मार्गों पर पड़ने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के उच्चीकरण की व्यवस्था करने के साथ सभी अस्पतालों में मैनपॉवर की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से विद्युत विभाग के कार्यों को समय से पूर्ण किए जाने के साथ-साथ विद्युत सुरक्षा की विशेष व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के लिए कहा। उन्होंने ने ट्रैफिक एवं भीड़ नियंत्रण के लिए ठोस कार्ययोजना बनाकर उसके अनुरूप कार्य किए जाने के लिए कहा। बैठक में कुम्भ मेलाधिकारी के द्वारा भीड़ निगरानी व भीड़ घनत्व के विशलेषण हेतु एआई आधारित मानीटरिंग किए जाने के बारे में बताया।

Leave a Comment