Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हिन्दू संगठन के पदाधिकारियों ने सौंपा एसडीएम को ज्ञापन,, की ये मांग

Jalaun news today । लोकसभा चुनाव में प्रशासन व्यस्त था प्रशासन की व्यस्तता के चलते नगर में गोमांस और गोमांस से बने खाद्य पदार्थों की बिक्री शुरू होने का आरोप हिंदू संगठनों ने लगाया है। हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों ने एसडीएम को ज्ञापन देकर इसकी बिक्री पर रोक लगाने की मांग की है। जिससे नगर का माहौल शांतिपूर्ण बना रहे।
हिंदू युवा वाहिनी के निवर्तमान जिलाध्यक्ष राजासिंह सेंगर गधेला, गौसंदा संरक्षण शोध संस्थान के संस्थापक अनिल शिवहरे, मनोज गुप्ता दिनेश कुशवाहा आदि ने नगर में गोमांस व गोमांस से बने खाद्य पदार्थों की बिक्री होने का आरोप लगाते हुए एसडीएम अतुल कुमार को ज्ञापन दिया। जिसमें उन्होंने बताया कि नगर में एक भी पशुवधशाला नहीं है और न ही कोई लाइसेंस धारक है। इसके बाद भी बड़़े पशुओं के मांस की लगातार बिक्री हो रही है। आरोप लगाया कि इन दुकानों पर गोमांस के साथ ही गोमांस से बने खाद्य पदार्थों की बिक्री हो रही है। जिससे हिंदू समाज के लोगों में रोष पनप रहा है। इस संदर्भ में पूर्व तत्कालीन एसडीएम सना अख्तर ने टीम बनाकर चैकिंग कराई थी। लेकिन टीम ने होटलों में मिले मांस को बिना किसी लैब में भेजे ही चिकिन और मटन बता दिया। इसके बाद जब उन्होंने इसकी पुनः शिकायत की तो नगर में मांस की बिक्री बंद कराई गई। उन्होंने एसडीएम को बताया कि लोकसभा चुनाव में प्रशासन की व्यस्तता के कारण नमूने नहीं भरे गए और चेकिंग नहीं की गई। इसका इन लोगों ने लाभ उठाया और एक बार फिर से बड़े मांस की बिक्री शुरू हो चुकी है। पदाधिकारियों ने एसडीएम से मांग करते हुए कहा कि नगर में लगभग 20 होटलों पर बिक रहे बड़े मांस एवं मांस से बने अन्य खाद्य पदार्थों की बिक्री बंद कराई जाए। ताकि नगर में अमन चैन और शांति व्यवस्था बनी रहे।

Leave a Comment